Home news अब कूलर में घास लगाने का जमाना गया, अब लगाइए ये नए तरह का ‘कागज’, AC जैसी देगा हवा | Honercomb pad or woodwool Pad For Air Cooler know which One is good for you room Know all details Here

अब कूलर में घास लगाने का जमाना गया, अब लगाइए ये नए तरह का ‘कागज’, AC जैसी देगा हवा | Honercomb pad or woodwool Pad For Air Cooler know which One is good for you room Know all details Here

by Vertika


आजकल बाजार में एक खास तरह के पैड मिल रहे हैं और बताया जा रहा है कि यह पुराने वुडवुल पैड यानी घास से ज्यादा कारगर साबित होते हैं.

यह कोई घास नहीं होती है और यह एक पैड होता है,जो कागज से बना होता है.

अक्सर लोगों को शिकायत रहती है कि उनका कूलर ठंडी हवा नहीं दे रहा है. इसके पीछे लोग कई वजह देते हैं और उनका उपाय भी करते हैं. जैसे कोई कूलर के लिए खिड़कियां खोलते हैं तो कई बार-बार हवा की सेटिंग चेंज करते रहते हैं. लेकिन, कूलर में पंप के लिए लगने वाले पैड भी कूलर के ठंडी हवा ना देने की वजह हो सकते हैं. इसलिए आजकल बाजार में एक खास तरह के पैड मिल रहे हैं और बताया जा रहा है कि यह पुराने वुडवुल पैड यानी घास से ज्यादा कारगर साबित होते हैं.

ऐसे में जानते हैं कि ये नई तरह की घास किस तरह काम करती है और क्या सही में ये पैड, वर्तमान घास से ज्यादा कारगर होते हैं. साथ ही जानेंगे कि आपको अपने कमरे के हिसाब से कौन-से पैड इस्तेमाल करने चाहिए. जानते हैं कूलर के पैड से जुड़ी हर एक बात…

क्या है नए तरह की ‘घास’?

दरअसल, यह कोई घास नहीं होती है और यह एक पैड होता है,जो कागज से बना होता है. इसे घास के स्थान पर लगाया जाता है और पंप का पानी इस पर गिरता है और यह हवा को ठंडा करने का काम करता है, इसे हनीकॉम्ब पैड कहते हैं. दिखने में भी यह मधुमक्खी के छत्ते की जैसे ही होता है. यह पैड अपनी मोटाई के हिसाब से मिलते हैं और आप जितने इंच के चाहें उतने के खरीद सकते हैं और जितना ज्यादा इंच के होंगे उतने ही फायदेमंद होंगे.

वैसे यह भी साधारण घास के पैटर्न पर काम करता है. जैसे ये भी पंप से गीला हो जाता है और फिर पंखा चलता है तो हवा ठंडी आती है. यह भी वाष्पीकरण से ही काम करता है. इसे एक बार फीक्स करना होता है और फीक्स करने के बाद आप कई साल तक टेंशन नहीं होती है, बस आपको इसका सफाई करनी होती है.

कौनसा है बेहतर?

अगर आप अच्छी क्वालिटी का हनीकॉन्ब पैड अपने कूलर में लगाते हैं और उसके मोटाई ठीक-ठाक है तो यह घास से कई मायनों अच्छा साबित होता है और ज्यादा देर तक कूलिंग करने में मदद करता है. बाजार में कई तरह के हनीकॉम्ब पैड आते हैं, इसलिए आपको क्वालिटी से समझौता नहीं करना चाहिए. खास बात ये है कि जहां सामान्य खास को एक सीजन में चेंज करना पड़ता है, वहीं हनीकॉम्ब को आप 5 साल तक चला सकते हैं.

लेकिन, अगर इसकी कीमत की बात करें तो यह काफी ज्यादा महंगा होता है. अगर आप अच्छी क्वालिटी का हनीकॉम्ब लाते हैं तो आपको 1000 रुपये तक खर्च करने पड़ते हैं, लेकिन सामान्य घास या वुडवुल पैड के लिए सिर्फ 150-200 रुपये खर्च करने होते हैं.

ये भी पढ़ें- इतिहास का सबसे बड़ा सर्च ऑपरेशन, 16 देशों में 2 करोड़ 70 लाख मैसेज के बाद पकड़े गए ड्रग्स के 800 सौदागर

You may also like

Leave a Comment