Home news Edible Oil Prices: सस्‍ता हो सकता है खाने का तेल, जून महीने में पाम ऑयल का आयात घटा | Edible oil prices in India Crude palm oil import in June 2021 down 24 percent as compared to May

Edible Oil Prices: सस्‍ता हो सकता है खाने का तेल, जून महीने में पाम ऑयल का आयात घटा | Edible oil prices in India Crude palm oil import in June 2021 down 24 percent as compared to May

by Vertika


मई की तुलना में जून 2021 के दौरान पाम आयाल का आयात कम हुआ है. माना जा रहा है घरेलू बाजार में पर्याप्‍त स्‍टॉक होने की वजह से जून महीने में पाम ऑयल का आयात कम हुआ है. अन्‍य खाद्य तेलों के आयात में भी कमी आई है.

घरेलू बाजार में पर्याप्‍त स्‍टॉक होने की वजह से आयात में कमी आई है. (सांकेतिक तस्‍वीर)

भारत में जून महीने के दौरान पाम ऑयल का आयात करीब 24 फीसदी तक कम हुआ है. पिछले महीने के मुकाबले जून में यह घटकर 5,87,467 टन रहा. दरअसल, घरेलू बाजार में पर्याप्‍त स्‍टॉक होने की वजह से जून महीने के दौरान बड़े स्‍तर पर इसके आयात की जरूरत नहीं पड़ी है. सॉल्‍वेंट एक्‍सट्रैक्‍टर्स एसोसिएशन (SEA) ने मंगलवार को इस बारे में जानकारी दी है. आम लोगों के नजरिए से देखें तो खाद्य तेलों का आयात कम होने के मतलब है कि घरेजू बाजार में इनकी कीमतें भी कम होंगी.

SEA ने इस बात की चिंता भी जताई है कि सितंबर महीने तक कच्‍चे पाम ऑयल और अन्‍य तरह के पाम ऑयल पर आयात शुल्‍क कम करने और दिसंबर महीने तक आरबीडी पामोलीन पर कोई प्रतिबंध नहीं लगाने की वजह से घरेलू रिफाइनर्स और ऑयलसीड्स उगाने वालों को नुकसान होगा.

खाद्य तेल का सबसे बड़ा आयातक

भारत दुनियाभर में खाद्य तेल का सबसे बड़ा आयातक है. जून 2020 के दौरान भारत में कुल 5,64,839 टन पाम ऑयल का आयात किया गया था. जबकि, मई 2021 में यह 7,69,602 टन पर पहुंच गया. भारत में पिछले साल जून में कुल 11.98 लाख टन खाद्य तेलों का आयात किया गया था. जोकि इस साल जून में 17 फीसदी घटकर 9.96 लाख टन पर आ गया है. भारत में खाद्य तेल के कुल आयात में पाम ऑयल की हिस्‍सेदारी करीब 60 फीसदी है.

SEA के अनुसार, घरेलू बाजार में पर्याप्‍त स्‍टॉक होने की वजह से पिछले महीने की तुलना में जून में वनस्पति तेल का आयात भी कम हुआ है.

पाम ऑयल प्रोडक्‍ट्स की बात करें तो इस साल जून में क्रूड पाम ऑयल (CPO) का आयात बढ़कर 5.76 लाख टन हो गया है. पिछले साल जून में यह आंकड़ा 5.63 लाख टन पर था. SEA के आंकड़ों से इस बारे में जानकारी मिलती है. क्रूड पाम कर्नेल ऑयल (CPKO) का शिपमेंट इस अवधि में 1,000 टन से बढ़कर 7,377 टन पर पहुंच गया है. आरबीडी पामोलीन ऑयल का आयात पिछले साल के 300 टन की तुलना में इस साल बढ़कर 3,200 टन पर पहुंच गया है.

अन्‍य तेलों का आयात घटा

अन्‍य तेलों की बात करें तो पिछले साल जून में सोयाबीन ऑयल का आयात करीब 3,31,171 टन पर पहुंच गया है. जबकि, इस साल जून में यह घटकर 2,06,262 टन पर आ गया है. इसी प्रकार सूरजमुखी के तेल का आयात 2,69,428 टन से कम होकर 175,702 टन पर आ चुका है.

किन देशों से खाद्य तेल आयात करता है भारत

एसईए का कहना है कि आरबीडी पाम ऑयल पर प्रतिबंध नहीं होने की वजह से नेपाल और बांग्‍लादेश से बिना आयात शुल्‍क के बड़ी मात्रा में रिफाइन्‍ड ऑयल का आयात होगा. इससे घरेलू बाजार में रिफाइनर्स पर असर पड़ेगा. 1 जुलाई तक भारत में खाद्य तेलों का कुल स्‍टॉक 19.87 लाख टन था. अनुमान है कि इसमें से करीब 12.60 लाख टन पाइपलाइन में है. बता दें कि भारत में पाम ऑयल को प्रमुख तौर पर इंडोनेशिया और मलेशिया से होता है. अर्जेंटीना से भी कुछ मात्रा में क्रूड सॉफ्ट ऑयल का आयात होता है. इसके अलावा यूक्रेन और रूसे से सूरजमुखी के तेल का आयात होता है.

यह भी पढ़ें: बुधवार के लिए पेट्रोल-डीज़ल का भाव जारी, चेक करें आज टंकी फुल करवाने पर कितना खर्च करना होगा

You may also like

Leave a Comment