Home news क्या प्लॉट लोन के बारे में जानते हैं आप, होम लोन से कितना होता है अलग? दोनों के ब्याज में ये है फर्क | What is plot loan and how it is different fr̥om home loan know about tenure and tax benefit on plot loan

क्या प्लॉट लोन के बारे में जानते हैं आप, होम लोन से कितना होता है अलग? दोनों के ब्याज में ये है फर्क | What is plot loan and how it is different fr̥om home loan know about tenure and tax benefit on plot loan

by Vertika

[ad_1]

होम लोन की अवधि प्लॉट लोन से ज्यादा होती है. होम लोन 30 साल के लिए हो सकता है, लेकिन प्लॉट लोन 15 साल तक के लिए ही होता है. होम लोन के मूलधन और ब्याज पर टैक्स का फायदा लिया जा सकता है. लेकिन प्लॉट लोन पर किसी टैक्स छूट का लाभ नहीं मिलता.

घर बनाने के लिए प्लॉट लोन के नियम जानिए (सांकेतिक तस्वीर)

कुछ लोग घर बनाने के लिए होम लोन लेते हैं और कुछ लोग प्लॉट (plot loan) खरीदने के लिए लोन लेते हैं. दोनों का मकसद घर बनाना ही होता है. आपको सुनने में दोनों एक जैसे लगें लेकिन अंतर बड़ा है. होम लोन उस रिहायशी प्रॉपर्टी के लिए मिलता है जो बनकर तैयार हो. अंडर कंस्ट्रक्शन या जो बाद में बन कर तैयार होगा, उसके लिए होम लोन दिया जाता है. प्लॉट लेने जमीन खरीदने के लिए दिया जाता है. वैसी जमीन जो घर बनाने के लिए हो. वैसी जमीन जो रेसिडेंशियल प्रॉपर्टी के लिए रिजर्व हो.

अधिकांश बैंक प्लॉट लोन (plot loan) देते हैं लेकिन उसके साथ कई नियम और शर्तें जोड़ते हैं. कुछ बैंक ऐसे भी हैं जो देश के खास हिस्से के लिए ही प्लॉट लोन देते हैं. बैंक अगर किसी को प्लॉट लेने देता है तो यह करारा कराता है कि लोन जारी होने के 18 महीने के भीतर उस जमीन पर घर बनाने का काम शुरू होना चाहिए. लोन एग्रीमेंट में यह करारनामा लिखा जाता है. बैंक चाहे तो उधार लेने वाले व्यक्ति से समय-समय पर निर्माण कार्य का फोटो मांग सकता है. आर्किटेक्ट का सर्टिफिकेट भी मांगा जा सकता है. अगर 18 महीने के भीतर घर बनने का काम शुरू नहीं होता है तो बैंक लोन अमाउंट लौटाने के लिए कह सकता है, वह भी मैच्योरिटी पीरियड से पहले.

प्लॉट लोन के लिए जरूरी बात

  • वैसा प्लॉट खरीदने के लिए लोन नहीं ले सकते जो जमीन गांव में हो
  • किसी औद्योगिक क्षेत्र की जमीन लेने के लिए प्लॉट लोन नहीं ले सकते
  • कृषि और खेती-बाड़ी से जुड़े कार्यों में प्लॉट लोन का पैसा नहीं लगा सकते
  • जिस प्लॉट के लिए लोन लिया हो, उस पर खेती का काम नहीं कर सकते
  • जिस प्लॉट लोन से जमीन खरीदी है, उस प्लॉट पर कॉमर्शियल कंस्ट्रक्शन नहीं कर सकते

प्लॉट लोन में कितना पैसा मिल सकता है

प्लॉट लोन देने के लिए ‘लोन टू वैल्यू’ LTV रेश्यो देखा जाता है. एलटीवी का अर्थ लोन का परसेंटेज है जो बैंक जारी करता है. इसमें कुछ पैसा उधार लेने वाले व्यक्ति को भी चुकाना होता है. होम लोन home loan में उधारकर्ता जो प्रॉपर्टी सिक्योरिटी में रखता है, बैंक उसकी कीमत का 90 परसेंट तक लोन देता है. प्लॉट लोन plot loan में यह परसेंटेज 65-75 प्रतिशत तक होता है. मान लीजिए प्लॉट खरीदने के लिए 40 लाख का लोन चाहिए तो बैंक उस पर 26-30 लाख (65-75 परसेंट) तक दे सकता है. बाकी के 10-14 लाख रुपये उधारकर्ता को अपनी तरफ से लगाने होंगे.

दोनों की अवधि कितने साल की होती है

होम लोन home loan की अवधि प्लॉट लोन से ज्यादा होती है. होम लोन 30 साल के लिए हो सकता है, लेकिन प्लॉट लोन 15 साल तक के लिए ही होता है. होम लोन के मूलधन और ब्याज पर टैक्स का फायदा लिया जा सकता है. लेकिन प्लॉट लोन पर किसी टैक्स छूट का लाभ नहीं मिलता. बाद में जब घर बनकर तैयार हो जाएगा तो उस पर टैक्स छूट ले सकते हैं. प्लॉट लोन plot loan का फायदा तभी मिलेगा जब खरीदी गई जमीन पर घर बनाना हो. अगर कॉमर्शियल कंस्ट्रक्शन करेंगे तो उस पर नियम एवं शर्तें अलग होंगी.

ये भी पढ़ें: कई सुविधाएं देती है यह पेंशन स्कीम, रिटायरमेंट फंड के साथ नॉमिनी को भी मिलता है रिटर्न

[ad_2]

You may also like

Leave a Comment