Friday, September 24, 2021
Home > news > बिटकॉइन के लिए फिर घाटे का सौदा साबित हुआ सितंबर, औंधे मुंह गिरी करंसी, हफ्ते की बड़ी गिरावट दर्ज | Cryptocurrency bitcoin price dropped 3 2 percent low to 44760 dollar during new york trading
news

बिटकॉइन के लिए फिर घाटे का सौदा साबित हुआ सितंबर, औंधे मुंह गिरी करंसी, हफ्ते की बड़ी गिरावट दर्ज | Cryptocurrency bitcoin price dropped 3 2 percent low to 44760 dollar during new york trading

bitcoin 1

[ad_1]

बिटकॉइन का ट्रेंड देखें तो इसके लिए सितंबर महीना हमेशा से घाटे का सौदा साबित होता रहा है. इस बार भी ऐसा ही हुआ. पिछले एक दशक का इतिहास बताता है कि बिटकॉइन की चलती-फिरती तेजी सितंबर महीने में काफूर हो जाती है.

अचानक गिरे बिटकॉइन के दाम, तकनीकी गड़बड़ी है वजह

बाजार में उतार-चढ़ाव की सनसनी फैलने के साथ ही बिटकॉइन औंधे मुंह गिर गया है. इस हफ्ते की यह सबसे बड़ी गिरावट बताई जा रही है. मार्केट वैल्यू के लिहाज से बिटकॉइन को क्रिप्टोकरंसी का बादशाह माना जाता है लेकिन इस हफ्ते इसकी गिरावट ने ट्रेडर्स को सकते में डाल दिया है. यह गिरावट 3.2 परसेंट तक देखी गई. यह गिरावट 44,760 डॉलर तक देखी गई है. दूसरी ओर इथर भी बड़ी गिरावट में देखा गया और यह 6.5 प्रतिशत गिरावट के साथ 3,210 डॉलर पर दर्ज हुआ. ब्लूमबर्ग की एक रिपोर्ट में इसकी जानकारी दी गई है.

बिटकॉइन में 50 दिन और 200 दिन का एवरेज देखा जाता है जिसके दौरान इस करंसी में बढ़ोतरी की उम्मीद होती है. अगर दोनों एवरेज अच्छे न रहें तो बिटकॉइन में बड़ी गिरावट देखी जा सकती है. एक्सपर्ट मान कर चल रहे हैं कि आगे कुछ भी गड़बड़ी हुई तो बिटकॉइन के दाम 40,000 डॉलर से नीचे जा सकते हैं. पिछले हफ्ते में 50 दिन के एवरेज ने बिटकॉइन को काफी मदद दी है जिसमें इसके दाम में बड़ी वृद्धि देखी गई है. 50 दिन के एवरेज के बाद बिटकॉइन की कीमतों में तेजी देखी जा रही है. लेकिन आने वाले दिन क्रिप्टोकरंसी के हिसाब से ठीक न रहें तो बिटकॉइन के दाम गिर सकते हैं. इसे लेकर ट्रेडर्स और बिटकॉइन में निवेश करने वाले लोगों में चिंता देखी जा रही है.

क्यों गिरे दाम

बिटकॉइन के दाम में गिरावट के पीछे अल-सल्वाडोर को कारण बताया जा रहा है. अल-सल्वाडोर ने अभी हाल में बिटकॉइन को अपनी लीगल टेंडर बनाया है. यानी बिटकॉइन में भी यहां के वित्तीय काम हो सकते हैं. लोग सब्जी-दूध खरीदने से लेकर बैंकिंग ट्रांजेक्शन में भी बिटकॉइन का इस्तेमाल कर सकते हैं. अल-सल्वाडोर की सरकार ने इसे मंजूरी दी है. लेकिन मंगलवार को अल-सल्वाडोर के बिटकॉइन नेटवर्क में बड़ी टेक्निकल गड़बड़ी देखी गई. इस कारण यह क्रिप्टोकरंसी पूरी दुनिया में औंधे मुंह गिर गई. एक ही दिन में 17 परसेंट की गिरावट आई जिससे 336,000 ट्रेडर्स ने झटके में अपने बिटकॉइन बेचकर खाता खाली कर दिए.

ट्रेंड भी रहा है खतरनाक

बिटकॉइन का ट्रेंड देखें तो इसके लिए सितंबर महीना हमेशा से घाटे का सौदा साबित होता रहा है. इस बार भी ऐसा ही हुआ. पिछले एक दशक का इतिहास बताता है कि बिटकॉइन की चलती-फिरती तेजी सितंबर महीने में काफूर हो जाती है. सितंबर अकेला ऐसा महीना है जिसमें बिटकॉइन को कोई पॉजिटिन रिटर्न नहीं मिलता. हर सितंबर में महीने में 6 परसेंट एवरेज की हिसाब से बिटकॉइन में गिरावट देखी गई है.

उधर, अल-सल्वाडोर ने जब से क्रिप्टोकरंसी को अपना लीगल टेंडर बनाया है, तब से पूरी दुनिया की निगाहें उस पर टिकी हैं. अल-सल्वाडोर अभी ‘लिटमस टेस्ट’ का केंद्र बना हुआ है जिसकी निगरानी ट्रेडर्स और विशेषज्ञ गंभीरता से कर रहे हैं. लोग देखना चाहते हैं कि अल-सल्वाडोर का प्रयोग क्रिप्टोकरंसी की दुनिया में क्या करामात करता है. या तो यह कामयाब होगा या फिर नाकाम होगा. उसी आधार पर अन्य देशों में भी इसकी परंपरा शुरू की जाएगी. अल-सल्वाडोर में अमेरिकी डॉलर के साथ बिटकॉइन में भी ट्रांजेक्शन चल रहा है. इससे पता चलेगा कि यह देश को प्रगति की राह पर ले जाता है या अर्थव्यवस्था को चौपट करता है.

ये भी पढ़ें: Cryptocurrency: खेल-खेल में हो रही कमाई! क्रिप्टोकरंसी गेमिंग से ऐसे बना सकते हैं पैसा

[ad_2]

Vertika
http://views24hours.com
Vertika is the lead writer on views24hours.com. With experience from top news agencies, she knows all about writing and explaining the stuff to readers. Keep reading

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *