Thursday, October 14, 2021
Home > news > Car-Bike वाले ध्यान दें! देश में एक जैसा होगा पॉल्यूशन कंट्रोल सर्टिफिकेट, QR Code में दर्ज होंगी डिटेल्स, जानें इसकी खूबियां | Ministry of Road Transport Notifies Common Format of Pollution Control Certificate features and details of One nation one PUC
news

Car-Bike वाले ध्यान दें! देश में एक जैसा होगा पॉल्यूशन कंट्रोल सर्टिफिकेट, QR Code में दर्ज होंगी डिटेल्स, जानें इसकी खूबियां | Ministry of Road Transport Notifies Common Format of Pollution Control Certificate features and details of One nation one PUC

Pollution Control Certificate 1

[ad_1]

Pollution Control Certificate के लिए वाहन मालिक का मोबाइल नंबर अनिवार्य कर दिया गया है, जिस पर सत्यापन और शुल्क के लिए एक एसएमएस अलर्ट भेजा जाएगा.

देशभर में एक जैसा जारी होगा Pollution Control Certificate (सांकेतिक तस्‍वीर/Pixabay)

वन नेशन, वन राशन कार्ड की तर्ज पर अब आपके वाहन का पॉल्यूशन कंट्रोल सर्टिफिकेट भी देशभर में एक जैसा होगा. नई व्यवस्था के तहत इसकी ढेर सारी खूबियां होंगी. केंद्रीय सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्रालय (MoRTH) ने देश भर में सभी वाहनों के प्रदूषण नियंत्रण प्रमाणपत्र (Pollution Control Certificate) के लिए एक समान प्रारूप बनाने के लिए अधिसूचना जारी कर दी है. पीयूसी डेटाबेस को नेशनल रजिस्टर सिस्टम के साथ जोड़ा जाएगा, ताकि आपके वाहन की डिटेल्स के साथ उसके पॉल्यूशन कंट्रोल की स्थिति भी सरकार के पास रिकॉर्ड रहे.

केंद्रीय मंत्रालय द्वारा केंद्रीय मोटर वाहन नियम 1989 में बदलाव के बाद पीयूसी फार्म पर QR Code छपा होगा, जिसमें वाहन, मालिक और उत्सर्जन की स्थिति का विवरण दर्ज होगा. केंद्रीय मंत्रालय (Ministry of Road Transport and Highways) ने केंद्रीय मोटर वाहन नियम 1989 के तहत देश भर में जारी किए जाने वाले पीयूसी सर्टिफिकेट के सामान्य प्रारूप के लिए 14 जून, 2021 को अधिसूचना जारी की है.

देशभर में एक समान पीयूसी मॉडल

सरकारी अधिसूचना के मुताबिक देश भर में एक समान पीयूसी प्रारूप की शुरुआत की जाएगी. इस पर दर्ज सूचना गोपनीय रहेगी. यानी वाहन मालिक का मोबाइल नंबर, नाम और पता, गाड़ी का इंजन नंबर और चेसिस नंबर वगैरह सीक्रेट रहेंगे. केवल अंतिम चार अंक विजिबल रहेगा. फॉर्म पर क्यूआर कोड छपा होगा. इसमें पीयूसी केंद्र के बारे में पूरी जानकारी होगी.

रिजेक्शन पर्ची भी आएगी काम

इसके साथ ही यदि वाहन उत्सर्जन मानकों पर खरा नहीं उतरा है, तो पहली बार उसे अस्वीकृति की पर्ची (Rejected) दी जाएगी. इस पर्ची का इस्तेमाल वाहन की सर्विस कराने के लिए या किसी दूसरे केंद्र पर जांच कराने के लिए किया जा सकता है. हो सकता है कि उस प्रदूषण जांच केंद्र के उपकरण ठीक से काम नहीं कर रहे हों. ऐसे में आप रिजेक्शन पर्ची के आधार पर दूसरे सेंटर पर जांच करा सकेंगे.

मोबाइल नंबर पर भेजा जाएगा अलर्ट मैसेज

पीयूसी के लिए वाहन मालिक का मोबाइल नंबर अनिवार्य कर दिया गया है, जिस पर सत्यापन और शुल्क के लिए एक एसएमएस अलर्ट भेजा जाएगा. यदि सक्षम पदाधिकारी के पास यह मानने का कारण है कि कोई मोटर वाहन पॉल्यूशन कंट्रोल के मानकों का अनुपालन नहीं कर रहा है, तो वह वाहन चालक या वाहन के प्रभारी को पॉल्यूशन सेंटर में जांच के लिए सूचित कर सकता है. अधिकारी चाहें तो लिखित में, या मोबाइल-ईमेल वगैरह इलेक्‍ट्रॉनिक माध्‍यम से सूचना दे सकते हैं.

कार्रवाई: फाइन भरना होगा, आरसी भी हो सकता है सस्पेंड

यदि वाहन चालक या प्रभारी व्यक्ति पॉल्‍यूशन जांच के लिए वाहन प्रस्तुत नहीं करता है या फिर उसका वाहन पॉल्‍यूशन कंट्रोल के मानकों पर खड़ा नहीं उतरता है तो उसपर कार्रवाई होगी. उसके ऊपर फाइन चार्ज किया जा सकता है.

कार्रवाई के रूप में नियमों के मुताबिक, पॉल्यूशन कंट्रोल सर्टिफिकेट प्रस्तुत करने तक के लिए वाहन का रजिस्ट्रेशन या परमिट सस्पेंड किया जा सकता है. इस प्रकार नियम लागू कराना आईटी-सक्षम होगा और प्रदूषण फैलाने वाले वाहनों पर कंट्रोल करने में मदद करेगा.

यह भी पढ़ें: ब्लू इकोनॉमी: 6 Points में समझें- क्‍या है मोदी सरकार का ‘गहरा समुद्री मिशन’, 4077 करोड़ रुपये में क्या-क्‍या होगा?

[ad_2]

Vertika
http://views24hours.com
Vertika is the lead writer on views24hours.com. With experience from top news agencies, she knows all about writing and explaining the stuff to readers. Keep reading

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *