सुकन्या समृद्धि योजना SSY ₹250 से लेकर ₹1.5 लाख तक कर सकते हैं निवेश, मिलेगा 7.6% का सालाना ब्याज

आईये जानें Sukanya Samriddhi Yojana (SSY) क्या है, इसमें क्या क्या लाभ मिलते हैं, ब्याज (Interest Rate) कितना मिलेगा और ऑनलाइन आवेदन फॉर्म (Apply Online) कैसे कैसे भरें

भारत सरकार द्वारा चलाई जा रही सुकन्या समृद्धि योजना(Sukanya Samriddhi Yojana/SSY scheme) से आप बेटियों के लिए एक बड़ी राशि जमा कर सकते हैं जिसे बेटियों की उच्च शिक्षा और विवाह के लिए भविष्य में उपयोग किया जा सकता है। योजना के लिए आवेदन करने पर सरकार द्वारा टैक्स में भी छूट दी जाएगी।

भारत सरकार द्वारा कन्याओं के उत्थान के लिए विभिन्न प्रकार की योजनाएं चलाई जा रही है। वर्ष 2015 में भारत सरकार द्वारा सुकन्या समृद्धि योजना की शुरुआत की गई जिसके माध्यम से 10 वर्ष तक की आयु की कन्याओं के लिए बचत खाते का प्रावधान शुरू किया गया जिससे कि भविष्य में कन्याओं को उच्च शिक्षा में आर्थिक सहायता मिल सके एवं उनके विवाह में भी सहयोग मिल सके। सुकन्या समृद्धि योजना 2022 का फॉर्म भरकर आप भी अपनी कन्याओं की उच्च शिक्षा के लिए बचत खाते की शुरुआत कर सकते हैं।

आईये जानें Sukanya Samriddhi Yojana के बारे में , SSY स्कीम

किसे मिलेगा फायदा

यह योजना सिर्फ और सिर्फ कन्याओं के लिए लागू है। इस योजना के अंतर्गत अधिकतम दो कन्याओं को लाभ दिया जाएगा परंतु जुड़वा कन्याओं के जन्म की स्थिति में मिलने वाले लाभ में कुछ परिवर्तन हो सकता है इस प्रकार परिवार की 3 कन्याओं को योजना का लाभ दिया जाएगा।

ध्यान देने हेतु बात यह है कि एक कन्या का केवल और केवल एक ही खाता होना चाहिए।

क्या मिलेगा फायदा

सुकन्या समृद्धि योजना के अंतर्गत आप अपनी कन्याओं के बचत खाते में 15 वर्ष तक पैसा जमा कर सकते हैं परंतु उसकी मैच्योरिटी 21 वर्ष की रहेगी जिस पर आपको वर्तमान नियमों के अनुसार 7.6% का सालाना ब्याज दिया जाएगा। कन्याओं की 18 साल की उम्र में आप उच्च शिक्षा हेतु 50% तक की राशि खाते से निकाल सकते हैं और 21 वर्ष बाद पूरी रकम निकाल सकेंगे। कन्या के 18 वर्ष की उम्र होने तक अभिभावकों को इस खाते को बरकरार रखना होगा उसके बाद अभिभावकों को बैंक में कन्या से संबंधित दस्तावेज देने होंगे।

योजना के आवेदन करने पर अभिभावकों को 80c नियमों के अनुसार टैक्स में भी छूट प्रदान की जाएगी।

इन बातों का रखें ध्यान

योजना के अंतर्गत कम से कम ₹ 250 सालाना जमा करना आवश्यक है। सालाना ₹250 जमा न कर पाने की स्थिति में ₹50 प्रति वर्ष की पेनल्टी देना होगी।

सालाना ₹250 जमा न कर पाने की स्थिति में खाता बंद कर दिया जाएगा। एक बार खाता बंद हो जाने की स्थिति में उसे पेनल्टी राशि और बकाया राशि जमा करके पुनः शुरू किया जा सकता है।

के अंतर्गत आप कम से कम ढाई सौ रुपए और अधिक से अधिक डेढ़ लाख रुपए सालाना का निवेश कर सकते हैं इससे अधिक राशि जमा करवाने की अनुमति वर्तमान परिस्थिति में योजना के अनुसार सरकार ने प्रदान नहीं की है।

किन स्थितियों में कर सकते हैं खाता बंद

  • खाता शुरू करने के 5 वर्ष पूरा होने पर आप खाते को बंद भी कर सकते हैं
  • अभिभावक या परिवार जन के गंभीर बीमारी से ग्रसित होने पर
  • कन्या के अभिभावकों की मृत्यु की स्थिति में भी खाता बंद किया जा सकता है
  • कन्या के एन आर आई यानी का अप्रवासी भारतीय हो जाने पर भी खाता बंद करना अनिवार्य है क्योंकि यह योजना अप्रवासी भारतीयों के लिए लागू नहीं होती है।

सुकन्या समृद्धि योजना ऑनलाइन आवेदन फॉर्म कैसे भरें Online Apply

योजना का लाभ लेने हेतु आप सरकारी या प्राइवेट बैंकों में या फिर पोस्ट ऑफिस में भी सुकन्या समृद्धि योजना के अंतर्गत कन्या के नाम से खाता खुलवा सकते हैं। योजना के लिए आवेदन करने हेतु भारत सरकार के वित्त मंत्रालय की राष्ट्रीय बचत संस्थान (नेशनल सेविंग इंस्टीट्यूट/National Saving Institute) की आधिकारिक वेबसाइट http://www.nsiindia.gov.in पर उपलब्ध आवेदन पत्र का प्रिंटआउट लेकर उसमें मांगी गई जानकारियों को भरकर नजदीकी पोस्ट ऑफिस या बैंक में जमा करवा सकते हैं।

word image 13

आवश्यकता होने पर आप कन्या के खाते को देशभर में किसी भी स्थान पर स्थानांतरित करवा सकते हैं।

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *