छत्तीसगढ़ महतारी दुलार योजना – कोविड से अनाथ हुए बच्चों के लिए निशुल्क शिक्षा और छात्रवृत्ति

कोरोनावायरस के कारण राज्य के जिन छात्र-छात्राओं (Orphan) के माता पिता की मृत्यु हो गई है ऐसे छात्र छात्राओं को प्रदेश सरकार ने निशुल्क शिक्षा प्रदान करने के लिए छत्तीसगढ़ महतारी दुलार योजना 2021 का शुभारंभ किया है। पात्र छात्र छात्राओं को छात्रवृत्ति भी प्रदान की जाएगी।

वर्ष 2020 से लेकर वर्तमान समय तक कोरोना महामारी ने विश्व में और हमारे देश में कई प्रकार से हानि पहुंचाई है। अर्थव्यवस्था बिगड़ने के साथ ही भारी तादाद में नागरिकों ने कोरोना महामारी के कारण अपने प्रिय जनों को खोया है। हमारे देश के ऐसे कई बच्चे हैं जो कोरोनावायरस के चलते अनाथ हो चुके हैं, जिस कारण इनका जीवन यापन कठिन हो रहा है। आज की स्थिति में भोजन जैसी मूलभूत आवश्यकता के लिए भी इन बच्चों को कठिनाइयों का सामना करना पड़ रहा है। इसके साथ ही ऐसे बच्चों की शिक्षा पर भी गहरा प्रभाव पड़ा है और वह अपनी शिक्षा से वंचित हो रहे हैं इस समस्या को दूर करने के उद्देश्य से छत्तीसगढ़ के माननीय मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल ने ऐसे छात्र छात्राओं की शिक्षा के लिए छत्तीसगढ़ महतारी दुलार योजना 2021 की शुरुआत की है जिसके तहत ऐसे छात्र छात्राओं को निशुल्क शिक्षा (Free Education) और छात्रवृत्ति (Scholarship) दी जाएगी जिन्होंने कोरोनावायरस कारण अपने माता पिता को खो दिया है और जिनके घरों में धन उपार्जन करने वाला कोई व्यस्क नहीं है।

छत्तीसगढ़ महतारी दुलार योजना

योजना के अंतर्गत छात्रों को शासकीय शालाओं में एवं आवेदन मिलने पर सरकार द्वारा चलाए जा रहे स्वामी आत्मानंद अंग्रेजी माध्यम स्कूलों में निशुल्क शिक्षा प्रदान की जाएगी। प्रतिभावान छात्र छात्राओं को उच्च शिक्षा एवं व्यावसायिक पाठ्यक्रमों में प्रवेश हेतु कोचिंग की मुफ्त सुविधा (Free Coaching) भी सरकार द्वारा दी जाएगी। वर्तमान स्थिति में योजना के लिए 5000 से अधिक आवेदन प्राप्त हुए जिनमें से आधे से भी कम आवेदन ही योजना के नियम अनुसार पात्र हैं। मुख्यमंत्री द्वारा इस योजना के तहत 1.65 करोड रुपए छात्र-छात्राओं को प्रदान किए जा चुके हैं।

कितनी मिलेगी छात्रवृत्ति

सरकार द्वारा चयनित छात्र छात्राओं को शिक्षा में होने वाले खर्च हेतु निशुल्क शिक्षा के अतिरिक्त छात्रवृत्ति भी दी जाएगी। कक्षा एक से आठवीं तक के छात्र छात्राओं को ₹500 प्रति माह और नौवीं से बारहवीं तक के छात्र छात्राओं को ₹1000 प्रति माह की छात्रवृत्ति दी जाएगी।

CG Mehtari Dular Yojana में कैसे होगा आवेदन

मुख्यमंत्री छत्तीसगढ़ महतारी दुलार योजना का सुचारु रुप से क्रियान्वयन करने के लिए सरकार द्वारा प्रत्येक जिले के कलेक्टर, जिला शिक्षा अधिकारी (District Education Officer/DEO) एवं स्वास्थ्य अधिकारी (Health officer) को आदेश है कि वे योजना के नियमों के अनुसार पात्र छात्र-छात्राओं की जानकारी सरकार तक पहुंचाए। इस योजना को लागू करने के लिए स्कूल शिक्षा विभाग को एक महत्वपूर्ण जिम्मेदारी सौंपी गई है। इसके अतिरिक्त स्वयं छात्र-छात्राएं और उनके हितेषी भी कलेक्टर ऑफिस में जाकर योजना के लिए आवेदन कर सकते हैं। वर्तमान समय में योजना से संबंधित कोई आधिकारिक पोर्टल या वेबसाइट सरकार द्वारा घोषित नहीं की गई है परंतु भविष्य में योजना को सुगमता के साथ को बनाए रखने के लिए ऑनलाइन पोर्टल बनाया जा सकता है।

योजना के लिए पात्रता

  • योजना का लाभ केवल छत्तीसगढ़ के छात्र-छात्राओं को दिया जाएगा
  • ऐसे छात्र-छात्राएं जिनके परिवार के कमाने वाले सदस्यों की कोरोनावायरस कारण मृत्यु हो चुकी है और
  • वे छात्र छात्राएं जिनके घरों में कोई व्यस्क ना हो जिससे उनका भरण-पोषण मुश्किल हो रहा है।

छत्तीसगढ़ प्रदेश सरकार की यह महतारी दुलार योजना कोरोना के बाद उत्पन्न हुई विकट परिस्थितियों के बीच अनाथ बच्चों को शिक्षा से जोड़े रखने और शिक्षा देने का महत्वपूर्ण कार्य कर रही है। इस योजना से लाभान्वित छात्र-छात्राएं निश्चित ही इस प्रकार की योजना और सरकारी सहायता के लिए योग्य हैं। कठिन परिस्थितियों में भी शिक्षा के लिए इच्छुक छात्र छात्राओं के लिए यह योजना वास्तविक रूप में एक वरदान स्वरुप है।

Leave a Comment